भ्रूण विभाजन क्या होता है? जानते है दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ आईवीएफ सेंटर द्वारा

Post by Baby Joy 0 Comments

कुछ दम्पत्तियों की बांझपन (infertility) की समस्या के इलाज के लिए बहुत प्रकार के समाधान उपलब्ध हैं और यही आधुनिक चिकित्सा विज्ञान (modern medical science) की खूबसूरती है। आइए, हम दिल्ली के सबसे श्रेष्ठ आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center in Delhi) की सहायता से भ्रूण विभाजन (embryo splitting) की प्रक्रिया के साथ-साथ इसमें शामिल चरणों को भी सही ढ़ंग से समझें।

भ्रूण विभाजन क्या है? (What is Embryo Splitting? )

सबसे बेहतर आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center) के अनुसार, वह प्रक्रिया जिसमें 2, 4 या 8 सेल स्टेजिज़ (cell stages) में भ्रूणों को अलग करने के लिए इन विट्रो (in vitro) में जुड़वां या कई भ्रूणों का निर्माण होता है, भ्रूण विभाजन (embryo splitting) कहलाती है। यह आर्टिफीसियल ट्विनिंग (artificial twinning) के रूप में भी लोकप्रिय है। मूल रूप से यह एक ही भ्रूण (embryo ) से आनुवंशिक रूप (genetically identical) से समान संतान पैदा करने के लिए प्रचलित एक विधि है।

भ्रूण विभाजन (embryo splitting) की प्रक्रिया एक प्रयोगशाला में एक अनुभवी प्रजनन विशेषज्ञ (experienced fertility specialist) द्वारा की जाती है। यह तकनीक मानव शरीर के बाहर की जाती है, इसीलिए इसे इन-विट्रो (in-vitro) कहा जाता है।

इस प्रक्रिया को और भी अच्छे तरीके से समझने के लिए, आने वाले वाक्यों में हम इसमें शामिल चरणों (steps involved) को समझने का प्रयास करेंगे, जिसे दिल्ली में आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center) की सहायता से प्रस्तुत किया गया है।

भ्रूण विभाजन में शामिल चरण क्या हैं? 

(What are the steps involved in Embryo Splitting?)

निम्नलिखित बिंदुओं में, हम दिल्ली में आईवीएफ केंद्र (IVF Center in Delhi) द्वारा बताए गए भ्रूण विभाजन (embryo splitting) में शामिल चरणों के बारे में जानेंगे:

  • भ्रूण का चयन (Selection of Embryo): यह प्रक्रिया एक उपयुक्त भ्रूण (suitable embryo) के चयन से शुरू होती है। यह भ्रूण (embryo) आम तौर पर प्रारंभिक विकास चरण (early developmental stage) में होता है।
  • यांत्रिक विभाजन (Mechanical Splitting): चुने गए भ्रूण (selected embryo) को दो या दो से अधिक अलग-अलग भागों में विभाजित करने के लिए एक सूक्ष्म सुई (microscopic needle) या एक विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है। क्या प्रत्येक परिणामी भ्रूण (resulting embryo) में एक पूर्ण जीव में विकसित होने के लिए आवश्यक घटक (necessary components) हैं या नहीं, इस प्रक्रिया में यह सुनिश्चित करने के लिए सटीकता (precision) की आवश्यकता होती है।
  • संवर्धन और विकास (Culturing and Development): विभाजित भ्रूणों (divided embryos) को फिर प्रयोगशाला वातावरण में संवर्धित (cultured) किया जाता है। उन्हें एक उपयुक्त विकास (suitable growth) माध्यम में रखा जाता है और विकास के लिए आवश्यक शर्तें प्रदान की जाती हैं। इसमें आमतौर पर तापमान (temperature) और आर्द्रता नियंत्रण (humidity control) शामिल है।
  • स्थानांतरण (Transfer): एक बार जब विभाजित भ्रूण (splitted embryo) एक उपयुक्त अवस्था (suitable stage) में विकसित (developed) हो जाते हैं, तो उन्हें प्राप्तकर्ता महिलाओं (recipient females) में स्थानांतरित (transfer) कर दिया जाता है। 
  • गर्भधारण और जन्म (Gestation and Birth): प्राप्तकर्ता माताएं (recipient females) विभाजित भ्रूणों (splitted embryos) को जन्म देती हैं और आनुवंशिक (gentical) रूप से समान संतानों को जन्म देती हैं। ये संतानें मूलतः उस मूल भ्रूण के क्लोन हैं जिनसे वे विभाजित (divided) हुए थे।
  • स्वास्थ्य निगरानी (Health Monitoring): किसी भी प्रजनन तकनीक (reproductive technique) की तरह, परिणामी क्लोनों (resulting clones) के स्वास्थ्य (health) और कल्याण (well-being) की बारीकी से निगरानी (monitoring) की जाती है । 

आईवीएफ केंद्र (IVF Center) तकनीकी प्रगति और विशेष रूप से अनुभवी प्रजनन डॉक्टरों (fertility doctors) के साथ अपनी विश्व स्तरीय (world class) चिकित्सा सुविधाओं के साथ शहर में सर्वोत्तम प्रजनन उपचार (best fertility treatment) प्रदान करता है। यह दिल्ली/एनसीआर में सबसे ज़्यादा किफायती आईवीएफ लागत (Best IVF Cost in Delhi/NCR) ऑफर करता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

शीर्ष आईवीएफ केंद्र (Top IVF Center) का कहना है कि विभिन्न प्रजनन उपचारों (fertility treatments) के बारे में ज्ञान होना आवश्यक है, इसलिए यहाँ हमने भ्रूण विभाजन (embryo splitting) के बारे में अध्ययन किया है जिसमें हमने समझा है कि भ्रूण विभाजन (embryo splitting) एक ही भ्रूण से आनुवंशिक रूप (genetical) से समान संतान पैदा करने के लिए प्रचलित एक विधि है।

सबसे बेहतर आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center) के अनुसार, वह प्रक्रिया जिसमें 2, 4 या 8 सेल स्टेजिज़ (cell stages) में भ्रूणों (embryos) को अलग करने के लिए इन विट्रो (in-vitro) में जुड़वाँ या कई भ्रूणों (twin or multiple embryos) का निर्माण होता है, वह भ्रूण विभाजन (embryo splitting) कहलाती है। यह तकनीक मानव शरीर के बाहर की जाती है, इसीलिए इसे इन-विट्रो (in-vitro) कहा जाता है। यह प्रक्रिया भी एक अनुभवी चिकित्सक द्वारा प्रयोगशाला में की जाती है, इसलिए, यह कुछ हद तक ये आईवीएफ (IVF) की विधि के समान है।

आईवीएफ केंद्र (IVF Center) के अनुसार, भ्रूण विभाजन (embryo splitting) में कुछ क्रियाएं (steps) शामिल हैं जो इस प्रकार हैं; भ्रूण का चयन (selection of embryo), यांत्रिक विभाजन (mechanical splitting), संवर्धन (culturing) और विकास (development), स्थानांतरण (transfer), गर्भधारण (pregnancy) और जन्म स्वास्थ्य निगरानी (birth, health monitoring)। मूल रूप से यह एक ही भ्रूण (embryo) से आनुवंशिक रूप (genetical) से समान संतान पैदा करने के लिए प्रचलित एक विधि है।

Leave a Reply