वृद्ध दंपत्ति के लिए आईवीएफ (IVF) कैसे किया जाता है? समझते है गुड़गांव में सर्वश्रेष्ठ आईवीएफ सेंटर द्वारा।

Post by Baby Joy 0 Comments

गुड़गांव में सबसे प्रतिष्ठित आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center in Gurgaon) के अनुसार,आईवीएफ/IVF (इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन/in-vitro fertilization) दुनिया भर में कई लोगों के लिए सबसे पसंदीदा प्रजनन उपचार (fertility treatment) है। यह प्रक्रिया उन दम्पत्तियों के लिए माता-पिता बनने की संभावनाओंको बढाती है जो कुछ बांझपन समस्याओं (infertility issues) के कारण प्राकृतिक रूप (natural way) से माता-पिता बनने में सक्षम नहीं हैं। आइए आने वाले वाक्यों में समझें, कि वृद्ध माता-पिता के लिए आईवीएफ (IVF) का उपचार कैसे किया जाता है।

वृद्ध माता-पिता के लिए आईवीएफ कैसे किया जाता है? (How is IVF Done for Older Parents?)

गुड़गांव में आईवीएफ केंद्र (IVF Center in Gurgaon) के अनुसार, इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन/ (आईवीएफ/) उन वृद्ध दम्पत्तियों के लिए एक आदर्श विकल्प हो सकता है जो जैविक माता-पिता (parents) बनना चाहते हैं लेकिन अपनी बढ़ती उम्र के कारण प्रजनन में चुनौतीपूर्ण समस्याओं (challenging situations) का सामना कर रहे हैं।

गुड़गांव में आईवीएफ केंद्र (IVF Center in Gurgaon) के अनुसार, आईवीएफ उपचार (IVF treatment) की प्रक्रिया लगभग कम उम्र के जोड़ों (couples of younger age) के लिए करी जाने वाली प्रक्रिया के समान है जिसमें पुरुष के शुक्राणु (sperm) और महिला के अंडे (eggs) के बीच निषेचन (fertilization) की प्रक्रिया शामिल होती है, जिसके परिणामस्वरूप (as a result) एक निषेचित अंडा (fertilized egg) तैयार होता है, जिसे भ्रूण (embryo) कहा जाता है,उसे महिला के गर्भाशय (ovaries) में, एक सफल प्रत्यारोपण (implantation) की आशा में  रखा जाता है, जो निकट भविष्य में माता-पिता (parents) बनने की आशा पैदा करता है।

गुड़गांव में आईवीएफ सेंटर (IVF Center in Gurgaon) के अनुसार, बहुत से उम्र कारकों (factors) के कारण आईवीएफ (IVF) की सफलता दर (success rate) कम हो सकती है, जिसमें ओवेरियन रिज़र्व (ovarian reserve) में कमी और भ्रूण में क्रोमोसोमल असामान्यताओं (chromosomal abnormalities) का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही अधिक उम्र के माता-पिता (parents of old age) को भी गर्भावस्था के दौरान जटिलताओं का अधिक खतरा हो सकता है। बुढ़ापे में आईवीएफ (IVF) की दिशा में कोई भी कदम उठाने से पहले उचित चिकित्सीय परामर्श और मूल्यांकन (medical counseling as well as evaluation) आवश्यक है।

वृद्ध माता-पिता के लिए आईवीएफ में क्या कदम शामिल हैं? (What are the steps involved in IVF for Older Parents?)

निम्नलिखित बिंदुओं में वृद्ध माता-पिता (old parents) के लिए आईवीएफ (IVF) आयोजित करने की प्रक्रिया के बारे में आईवीएफ केंद्र (IVF Center) द्वारा बताया गया है  :

  • प्रारंभिक परामर्श (Initial Consultation):पहला कदम प्रजनन विशेषज्ञ (fertility specialist) या प्रजनन एंडोक्राइनोलॉजिस्ट (reproductive endocrinologist) के साथ परामर्श निर्धारित करना है। इस परामर्श के दौरान, डॉक्टर दोनों भागीदारों (both partners) के स्वास्थ्य (health) का आकलन (assessment) करेंगे और उनके चिकित्सा इतिहास (medical history) पर चर्चा करेंगे, जिसमें पहले से मौजूद स्वास्थ्य स्थितियां (health conditions) भी शामिल हैं जो प्रजनन क्षमता (fertility) को प्रभावित (affect) कर सकती हैं।
  • डिम्बग्रंथि रिजर्व परीक्षण (Ovarian Reserve Testing): वृद्ध माता-पिता (older parents) का ओवेरियन रिजर्व (ovarian reserve) कम हो सकता है, जिसका अर्थ है कि उनके पास कम व्यवहार्य अंडे (viable eggs) हैं। रक्त परीक्षण (blood test) और ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड (transvaginal ultrasound) सहित ओवेरियन रिजर्व परीक्षण (ovarian reserve test), एक महिला के शेष अंडों (remaining eggs) की मात्रा (quantity) और गुणवत्ता (quality) निर्धारित करने में मदद कर सकता है।
  • नियंत्रित डिम्बग्रंथि उत्तेजना (Controlled Ovarian Stimulation): आईवीएफ (IVF) में, महिला के अंडाशय (ovaries) को कई परिपक्व अंडे (mature eggs) का उत्पादन करने के लिए हार्मोन दवाओं (hormone medications) से उत्तेजित (stimulate) किया जाता है। वृद्ध महिलाओं (women) को अपने अंडाशय को प्रभावी ढंग से उत्तेजित (stimulate) करने के लिए इन दवाओं की उच्च खुराक की आवश्यकता हो सकती है। इस प्रक्रिया की अल्ट्रासाउंड (ultrasound) और हार्मोन परीक्षणों (hormone tests) से बारीकी से निगरानी की जाती है।
  • अंडा पुनर्प्राप्ति (Egg Retrieval): एक बार जब अंडे परिपक्व (mature) हो जाते हैं, तो उन्हें न्यूनतम इनवेसिव सर्जिकल प्रक्रिया (surgical procedure) के माध्यम से पुनः प्राप्त (retrieve) किया जाता है। यह आमतौर पर ट्रांसवजाइनल अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन (transvaginal ultrasound guidance) का उपयोग करके किया जाता है, और अंडों को एक पतली सुई (thin needle) के माध्यम से एस्पिरेट (aspirated) किया जाता है।
  • शुक्राणु संग्रह (Sperm Collection): पुरुष साथी (male partner) शुक्राणु (sperm) का नमूना प्रदान करता है, या यदि आवश्यक हो तो डोनर के शुक्राणु (donor’s sperm) का भी उपयोग किया जा सकता है।
  • निषेचन (Fertilization): गुड़गांव में सबसे प्रतिष्ठित आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center in Gurgaon) के अनुसार, प्रयोगशाला (lab) में निषेचन (fertilization) के लिए अंडे (eggs) और शुक्राणु (sperm) को मिलाया जाता है। यह मानक गर्भाधान (pregnancy) के माध्यम से किया जा सकता है, जहां शुक्राणु (sperm) को अंडों (eggs) में डाला जाता है, या इंट्रासाइटोप्लाज्मिक शुक्राणु (intracytoplasmic sperm) इंजेक्शन (आईसीएसआई/ICSI) के माध्यम से किया जाता है, जिसमें प्रत्येक परिपक्व अंडे (mature egg) में एक शुक्राणु (single sperm) का इंजेक्शन शामिल होता है। आईसीएसआई (ICSI) की सिफारिश अक्सर वृद्ध जोड़ों () के लिए की जाती है या यदि पुरुष प्रजनन (fertility) संबंधी समस्याएं हैं।
  • भ्रूण विकास (Embryo Development): निषेचित अंडे (fertilized egg), भ्रूण (embryo) में विकसित होते हैं। भ्रूण (embryo) की गुणवत्ता (quality) और विकास (development) की निगरानी की जाती है।
  • भ्रूण स्थानांतरण (Embryo Transfer): महिला के गर्भाशय (ovaries) में स्थानांतरण (transfer) के लिए एक या अधिक (multiple) स्वस्थ भ्रूणों (healthy embryo) का चयन किया जाता है। स्थानांतरित (transfer) किए गए भ्रूणों (embryos) की संख्या अक्सर महिला की उम्र (age), भ्रूण की गुणवत्ता (quality) और अन्य कारकों (factors) के आधार पर निर्धारित की जाती है। अतिरिक्त भ्रूण (remaining embryos) को भविष्य में उपयोग के लिए फ़्रीज़ (freeze) किया जा सकता है।
  • गर्भावस्था परीक्षण (Pregnancy Test): आईवीएफ चक्र (IVF cycle) सफल था या नहीं यह निर्धारित करने के लिए भ्रूण स्थानांतरण (embryo transfer) के लगभग 10 से 14 दिनों के बाद गर्भावस्था परीक्षण (pregnancy testing) आमतौर पर किया जाता है।

गुड़गांव के सर्वश्रेष्ठ आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center) का सुझाव है कि आईवीएफ प्रक्रिया (IVF treatment) में निवेश करने का निर्णय एक योग्य प्रजनन विशेषज्ञ (fertility specialist) के परामर्श से किया जाना चाहिए जो वृद्ध जोड़ों की स्थितियों और परिस्थितियों (situations & circumstances) के आधार पर व्यक्तिगत मार्गदर्शन (personalized guidance) प्रदान कर सकता है।

गुड़गांव में सर्वश्रेष्ठ आईवीएफ केंद्र (Best IVF Center in Gurgaon) एक आकर्षक सफलता दर के साथ सही आईवीएफ उपचार प्रदान करने में भी सहायता करता है। यह योग्य और अनुभवी चिकित्सा पेशेवरों की एक टीम और आधुनिक तकनीकी सुविधाओं से लैस है, जो प्रजनन उपचार (fertility treatment) के अनुभव को अधिक आसान और साथ ही गुणात्मक (quality enriched) बनाता है। इसके साथ ही, केंद्र दिल्ली/एनसीआर में सर्वोत्तम आईवीएफ लागत (Best IVF Cost in Delhi/NCR) की पेशकश करता है जो इसे और भी आदर्श (ideal) बनाता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आईवीएफ केंद्र (Center for IVF) का कहना है कि आईवीएफ/ (इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन/) की प्रक्रिया को वृद्ध आयु के माता-पिता (old age parents) के लिए उपयुक्त (ideal) माना जाता है। इससे वृद्ध लोगों के जैविक माता-पिता (biological parents) बनने के सपने को साकार करने की संभावना बढ़ जाती है।
गुड़गांव में आईवीएफ केंद्र (IVF Center in Gurgaon) के अनुसार, आईवीएफ की प्रक्रिया (IVF process) कम उम्र के जोड़ों (couples of younger age) की तरह ही की जाती है जिसमें पुरुष के शुक्राणु (sperm) और महिला के अंडे (eggs) के बीच निषेचन (fertilization) की प्रक्रिया शामिल होती है। इसमें कुछ चरण शामिल हैं जो हैं; प्रजनन विशेषज्ञ के साथ प्रारंभिक परामर्श (consultation), ओवेरियन रिज़र्व परीक्षण (ovarian reserve testing), नियंत्रित ओवेरियन उत्तेजना (controlled ovarian stimulation), अंडा पुनर्प्राप्ति (egg retrieval), शुक्राणु संग्रह (sperm collection), निषेचन (fertilization), भ्रूण विकास (embryo development), भ्रूण स्थानांतरण (embryo transfer), गर्भावस्था परीक्षण (pregnancy test)।

Leave a Reply